गायत्री आरती – Gayatri Aarti
श्री गायत्री माता

गायत्री आरती – Gayatri Aarti

गायत्री माता या देवी गायत्री – महालक्ष्मी, महासरस्वती और महाकाली के दिव्य सार का प्रतिनिधित्व करती हैं। देवी गायत्री को देवी के रूप में पूजा जाता है, जो ज्ञान और ज्ञान की असीम खोज को व्यक्त करता है।
Gayatri Mata Or Goddess Gayatri – Represents The Divine Essence Of Mahalakshmi, Mahasaraswati And Mahakali. Goddess Gayatri Is Worshiped As A Goddess, Expressing The Boundless Pursuit Of Knowledge And Wisdom.

आरती श्री गायत्रीजी की।।
ज्ञानद्वीप और श्रद्धा की बाती। सो भक्ति ही पूर्ति करै जहं घी को।।
मानस की शुची थाल के ऊपर। देवी की ज्योत जगैं जह नीकी।।
शुद्ध मनोरथ ते जहां घण्टा। बाजै करै आसुह ही की।।
जाके समक्ष हमें तिहुं लोक के। गद्दी मिले सबहुं लगै फीकी।।
आरती प्रेम सौ नेम सो करि। ध्यावहिं मूरति ब्रह्मा लली की।।
संकट आवै न पास कबौ तिन्हें। सम्पदा और सुख की बनै लीकी।।
आरती श्री गायत्रीजी की।।

aarati shree gaayatri jee kee||
gyaanadveep aur shraddha kee baatee| so bhakti hee poorti karai jahan ghee ko||
maanas kee shuchee thaal ke oopar| devee kee jyot jagain jah neekee||
shuddh manorath te jahaan ghanta| baajai karai aasuh hee kee||
jaake samaksh hamen tihun lok ke| gaddee mile sabahun lagai pheekee||
aaratee prem sau nem so kari| dhyaavahin moorati brahma lalee kee||
sankat aavai na paas kabau tinhen| sampada aur sukh kee banai leekee||
aarati shree gaayatri jee kee||

प्रातिक्रिया दे