अथ संकटमोचन श्री शनिदेवाष्टक – Ath Sankat Mochan Shree Shani Dev Ashtak
श्री शनि देव

अथ संकटमोचन श्री शनिदेवाष्टक – Ath Sankat Mochan Shree Shani Dev Ashtak

हमारे नियमित जीवन में, भगवान शनि की दया और शक्ति का बहुत महत्व है। दुनिया पर शासन करने वाले नौ ग्रहों में से शनि सातवें स्थान पर है। शनिदेव यम के भाई भी हैं और उन्हें न्याय का देवता माना जाता है। संकटमोचन शनिदेवाष्टक का पाठ करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं और आपके दैनिक जीवन में आने वाले सभी संकट को दूर करते हैं। जय शनि महराज की।
In our regular life, the mercy and power of Lord Shani is very important. Saturn occupies the seventh position out of the nine planets ruling the world. Shanidev is also the brother of Yama and is considered the god of justice. Shani Dev is pleased by reciting Sankatmochan Shani Devashtak and removes all the problems that come in your daily life. Jai Shani Maharaj

नाथ करूँ बिनती रवि के सुत छाय रही तव कीरति भारी।
जो मन ध्यावत हैं तुमको नहीं पावत संकट वे नर नारी।
रंकहि राउ करो पल में तुम भूपति को कर देत भिखारी।
जानत हैं सबही जग में शनिदेव प्रभु करतूत तुम्हारी।।
सूरज को मुख माहिं धारी तुम, कूद पातळ गए हनकारी।
आवत शेष लखे तबहिं छुडवाय दिए रवि की नहीं वारी।
देवन में बड़े देव तुम्ही प्रभु काटहु संकट क्लेश हमारी ।।
रावण पै जब कोप कियो, सब कंचन लंक करी तुम कारी।
श्री रघुनाथ समेत सिया लघु भ्रात किये बनमाहिं दुखारी।
आवत नाथ दशा तुम्हारी, सब पे कहते कथ शास्त्र पुजारी ।।
शंकर पे फल आप किया, गिरी को तज नाथ भजे त्रिपुरारी।
पारवती कहूं आप रहे शिव बारह बाट कियो लटधारी।
द्वापर माहिं दिशा तुम्हरी प्रभु नर सो श्याम किया तब नारी।
भूपति से हरिचन्द्र बिके, सुतनारि समेत करी तुम ख्वारी।
पिउवत शिवराज नृपे अज भूपन की प्रभु बाट बिगारी।
मोरध्वज नृप तंग किया, बलि भेज पताल दिया बलिहारी।।
पांडव युद्ध महान कियो, दल कौरव की तुमने मति मारी।
मारत शोर भयो जबहि उस पै तुमरी तब दृष्टि पधारी।
आपन क्रोध कियो नल पे भटको नल लै तिय प्राण पियारी।।
छार कियो हरनाकुश को तुमने शनिदेव महा प्रणधारी।
कंश निशाचर बंश बधे तुम आवत ही यदुनाथ मुरारी।
विक्रम भूपति चोर कियो उनको तुम त्रास दियो अति भारी।।
छीतर ध्यान करे तुमको प्रभु सादर कारज आप सुखारी।
लाज रखी सबकी तुमने फल अनुपम देकर नाथ बिचारि।
शांति सदा राखो रविनंदन जान के संकट देऊ निवारि।।

।। दोहा ।।

जय जय जय रवितनय प्रभु, हरहु सकल भ्रमशूल।
जन की रक्षा कीजिये, सदा रहहु अनुकूल।।

nath karoon binati ravi ke sut chhay rahi tav kirati bhari|
jo man dhyavat hain tumako nahin pavat sankat ve nar nari|
rankahi rau karo pal mein tum bhoopati ko kar det bhikhari|
janat hain sabahi jag mein shanidev prabhu karatoot tumhari||
sooraj ko mukh mahin dhari tum, kood patal gae hanakari|
avat shesh lakhe tabahin chhudavay die ravi ki nahin vari|
devan mein bade dev tumhi prabhu katahu sankat klesh hamari ||
ravan pai jab kop kiyo, sab kanchan lank kari tum kari|
shri raghunath samet siya laghu bhrat kiye banamahin dukhari|
avat nath dasha tumhari, sab pe kahate kath shastr pujari ||
shankar pe phal ap kiya, giri ko taj nath bhaje tripurari|
paravati kahoon ap rahe shiv barah bat kiyo latadhari|
dvapar mahin disha tumhari prabhu nar so shyam kiya tab nari|
bhoopati se harichandr bike, sutanari samet kari tum khvari|
piuvat shivaraj nrpe aj bhoopan ki prabhu bat bigari|
moradhvaj nrp tang kiya, bali bhej patal diya balihari||
pandav yuddh mahan kiyo, dal kaurav ki tumane mati mari|
marat shor bhayo jabahi us pai tumari tab drshti padhari|
apan krodh kiyo nal pe bhatako nal lai tiy pran piyari||
chhar kiyo haranakush ko tumane shanidev maha pranadhari|
kansh nishachar bansh badhe tum avat hi yadunath murari|
vikram bhoopati chor kiyo unako tum tras diyo ati bhari||
chhitar dhyan kare tumako prabhu sadar karaj ap sukhari|
laj rakhi sabaki tumane phal anupam dekar nath bichari|
shanti sada rakho ravinandan jan ke sankat deoo nivari||

|| doha ||

jay jay jay ravitanay prabhu, harahu sakal bhramashool|
jan ki raksha kijiye, sada rahahu anukool||

प्रातिक्रिया दे