श्री राम स्तुति: – Shree Ram Stuti
श्री राम

श्री राम स्तुति: – Shree Ram Stuti

॥ श्रीरामचन्द्र कृपालु ॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजमन हरण भवभय दारुणं ।
नव कञ्ज लोचन कञ्ज मुख कर कञ्ज पद कञ्जारुणं ॥१॥
कन्दर्प अगणित अमित छवि नव नील नीरद सुन्दरं ।
पटपीत मानहुँ तडित रुचि शुचि नौमि जनक सुतावरं ॥२॥
भजु दीनबन्धु दिनेश दानव दैत्य वंश निकन्दनं ।
रघुनन्द आनन्द कन्द कोसल​ चन्द दशरथ नन्दनं ॥३॥
सिर मुकुट कुंडल तिलक चारु उदार अङ्ग विभूषणं ।
आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खरदूषणं ॥४॥
इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनं ।
मम हृदय कंज निवास कुरु कामादि खलदल गंजनं ॥५॥
मनु जाहि राचेयु मिलहि सो वरु सहज सुन्दर सांवरो ।
करुणा निधान सुजान शीलु स्नेह जानत रावरो ॥६॥
एहि भांति गौरी असीस सुन सिय सहित हिय हरषित अली।
तुलसी भवानिहि पूजी पुनि-पुनि मुदित मन मन्दिर चली ॥७॥

॥सोरठा॥

जानी गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि ।
मंजुल मंगल मूल वाम अङ्ग फरकन लगे।

॥ Shree Ramchandra Kripalu ॥

Shri Ramachandra Kripalu Bhajuman Harana Bhavabhaya Daarunam ।
Navakanja Lochana Kanja Mukhakara Kanja Pada Kanjaarunam ॥1॥
Kandarpa Aganita Amita Chhav Nava Neela Neerara Sundaram ।
Patapita Maanahum Tadita Ruchi Shuchi Navmi Janaka Sutaavaram ॥2॥
Bhaju Deena Bandhu Dinesh Daanav Daityavansha Nikandanam ।
Raghunanda Aananda Kanda Kaushala Chanda Dasharatha Nandanam ॥3॥
Sira Mukuta Kundala Tilaka Chaaru Udaaru Anga Vibhooshanam ।
Aajaanu Bhuja Shara Chaapadhara Sangraama-jita-khara Dooshanam ॥4॥
Iti Vadati Tulsidas Shankar Shesha Muni Manaranjanam ।
Mama Hridayakanja Nivaas Kuru Kaamaadi Khaladal Ganjanam ॥5॥
Manu Jaahin Raacheu Milihi so Baru Sahaja Sundara Saanvaro ।
Karuna Nidhaan Sujaan Seelu Sanehu Jaanat Raavaro ॥6॥
Ehi Bhaanti Gauri Asees Suni Siya Sahita Hiyan Harashi Ali ।
Tulsi Bhavaanihi Pooji Puni Puni Mudit Man Mandir Chalee ॥7॥

॥ Sortha ॥

Jaani Gauri Anukool Siya Hiya Harashu Na Jaye Kaheen ।
Manjula Mangala Moola Bam Anga Pharkana Lage ।

हिंदी अनुवाद

हे मन कृपालु श्रीरामचन्द्रजी का भजन कर । वे संसार के जन्म-मरण रूपी दारुण भय को दूर करने वाले हैं ।
उनके नेत्र नव-विकसित कमल के समान हैं । मुख-हाथ और चरण भी लालकमल के सदृश हैं ॥१॥
उनके सौन्दर्य की छ्टा अगणित कामदेवों से बढ़कर है । उनके शरीर का नवीन नील-सजल मेघ के जैसा सुन्दर वर्ण है ।
पीताम्बर मेघरूप शरीर मानो बिजली के समान चमक रहा है । ऐसे पावनरूप जानकीपति श्रीरामजी को मैं नमस्कार करता हूँ ॥२॥
हे मन दीनों के बन्धु, सूर्य के समान तेजस्वी, दानव और दैत्यों के वंश का समूल नाश करने वाले,
आनन्दकन्द कोशल-देशरूपी आकाश में निर्मल चन्द्रमा के समान दशरथनन्दन श्रीराम का भजन कर ॥३॥
जिनके मस्तक पर रत्नजड़ित मुकुट, कानों में कुण्डल भाल पर तिलक, और प्रत्येक अंग मे सुन्दर आभूषण सुशोभित हो रहे हैं ।
जिनकी भुजाएँ घुटनों तक लम्बी हैं । जो धनुष-बाण लिये हुए हैं, जिन्होनें संग्राम में खर-दूषण को जीत लिया है ॥४॥
जो शिव, शेष और मुनियों के मन को प्रसन्न करने वाले और काम, क्रोध, लोभादि शत्रुओं का नाश करने वाले हैं,
तुलसीदास प्रार्थना करते हैं कि वे श्रीरघुनाथजी मेरे हृदय कमल में सदा निवास करें ॥५॥
जिसमें तुम्हारा मन अनुरक्त हो गया है, वही स्वभाव से सुन्दर साँवला वर (श्रीरामन्द्रजी) तुमको मिलेगा।
वह जो दया का खजाना और सुजान (सर्वज्ञ) है, तुम्हारे शील और स्नेह को जानता है ॥६॥
इस प्रकार श्रीगौरीजी का आशीर्वाद सुनकर जानकीजी समेत सभी सखियाँ हृदय मे हर्षित हुईं।
तुलसीदासजी कहते हैं, भवानीजी को बार-बार पूजकर सीताजी प्रसन्न मन से राजमहल को लौट चलीं ॥७॥
॥सोरठा॥
गौरीजी को अनुकूल जानकर सीताजी के हृदय में जो हर्ष हुआ वह कहा नही जा सकता। सुन्दर मंगलों के मूल उनके बाँये अंग फड़कने लगे ॥

प्रातिक्रिया दे