श्री सरस्वती आरती – Shree Saraswati Aarti
श्री सरस्वती माता

श्री सरस्वती आरती – Shree Saraswati Aarti

सरस्वती देवी विद्या और बुद्धि प्रदाता हैं। उन्होंने संगीत की उत्पत्ति इसलिए उन्हें संगीत की देवी भी कहते हैं। बसन्त पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के रूप में भी मनाते हैं। उन्हें वागीश्वरी, भगवती, शारदा, वीणावादनी और वाग्देवी सहित अनेक नामों से पूजा जाता है।
Saraswati Devi is the provider of education and wisdom. She originated music, hence she is also called the goddess of music. Saraswati Puja is celebrated on fifth day of Spring Season. She is worshiped by many names including Vagishwari, Bhagwati, Sharda, Veenavadini and Vagdevi.

आरती कीजे सरस्वती जी की,
जननि विधा बुद्धि भक्ति की |
जाकी कृपा कुमति मिट जाए,
सुमिरन करत सुमति गति आये,
शुक सनकादिक जासु गुण गाये,
वाणी रूप अनादि शक्ति की ||
नाम जपत भ्रम छुट दिये के,
दिव्य द्रष्टि शिशु उधर हिय के |
मिलहि दर्श पावन सीय पिय के,
उड़ाई सुरभि युग युग किर्ति की ||
रचित जासु बल वेद पुराणा,
जेते ग्रन्थ रचित जगन्मना |
तालु छन्द स्वर मिश्रित गाना,
जो आधार कवि यति सती की ||
सरस्वती की वीणा वाणी कला जननि की ||
आरती कीजे सरस्वती जी की,
जननि विधा बुद्धि भक्ति की ||

aaratee keeje sarasvatee jee kee,
janani vidha buddhi bhakti kee |
jaakee krpa kumati mit jae,
sumiran karat sumati gati aaye,
shuk sanakaadik jaasu gun gaaye,
vaanee roop anaadi shakti kee ||
naam japat bhram chhut diye ke,
divy drashti shishu udhar hiy ke |
milahi darsh paavan seey piy ke,
udaee surabhi yug yug kirti kee ||
rachit jaasu bal ved puraana,
jete granth rachit jaganmana |
taalu chhand svar mishrit gaana,
jo aadhaar kavi yati satee kee ||
sarasvatee kee veena vaanee kala janani kee ||
aaratee keeje sarasvatee jee kee,
janani vidha buddhi bhakti kee ||

प्रातिक्रिया दे