श्री सूर्य देव जी की आरती – Shree Surya Dev Aarti
श्री सूर्य

श्री सूर्य देव जी की आरती – Shree Surya Dev Aarti

सूर्य देव (जिसे आदित्य भी कहा जाता है) को हिन्दुओ में देवता मन जाता हैं। उन्हें ब्रह्मांड का निर्माता और सभी जीवन का स्रोत माना जाता है। वह सर्वोच्च आत्मा है जो दुनिया में प्रकाश और गर्मी लाता है। सूर्य के बिना जीवन असंभव है। आइए सभी मिलकर सूर्य देव जी की आरती गायें और उनको प्रसन्न करें।
Surya Dev (also known as Aditya) is considered a deity in Hindus. He is considered the creator of the universe and the source of all life. He is the supreme soul who brings light and heat to the world. Life is impossible without the sun. Let us all sing the Aarti of Sun God and please him.

ॐ जय सूर्य भगवान | जय हो तिनकर भगवान |
जगत के नेत्र स्वरूपा | तुम हो त्रिगुणा स्वरूपा | धरता सबही सब ध्यान ||
सारथी अरुण है प्रभु तुम | श्वेता कमालाधारी | तुम चार भुजा धारी |
अश्वा है साथ तुम्हारे | कोटि किराना पसारे | तुम हो देव महान ||
उषा काल में जब तुम | उदय चल आते | तब सब दर्शन पाते |
फैलाते उजीआरा | जागता तब जग सारा | करे तब सब गुण गान ||
भूचर जलचार खेचार | सब के हो प्राण तुम्ही | सब जीवो के प्राण तुम्ही |
वेद पुराण भखाने | धर्म सभी तुम्हे माने | तुम ही सर्व शक्तिमान ||
पूजन करती विशाएं | पूजे सब एक पार | तुम भुवनो के प्रतिपाल |
ऋतुएं तुम्हारी दासी | तुम शशक अविनाशी , शुभकारी अंशुमान ||
ॐ जय सूर्य भगवान | जय हो तिनकर भगवान |
जगत के नेत्र स्वरूपा | तुम हो त्रिगुणा स्वरूपा | धरता सबही सब ध्यान ||

om jay surya bhagavan | jay ho tinakar bhagavan |
jagat ke netra svarupa | tum ho triguna svarupa | dharata sabahi sab dhyan ||
sarathi arun hai prabhu tum | shveta kamaladhari | tum char bhuja dhari |
ashva hai sath tumhare | koti kiran pasare | tum ho dev mahan ||
usha kal mein jab tum | uday chal ate | tab sab darshan pate |
phailate ujiara | jagata tab jag sara | kare tab sab gun gan ||
bhuchar jalachar khechar | sab ke ho pran tumhi | sab jivo ke pran tumhi |
ved puran bhakhane | dharm sabhi tumhe mane | tum hi sarv shaktiman ||
pujan karati vishaen | pooje sab ek par | tum bhuvano ke pratipal |
rituein tumhari dasi | tum shashak avinashi, shubhakari anshuman ||
om jay surya bhagavan | jay ho tinakar bhagavan |
jagat ke netr svarupa | tum ho triguna svarupa | dharata sabahi sab dhyan ||

प्रातिक्रिया दे